यूपी में बनेगा एक नया एक्सप्रेस्वे, 12 जिलों से गुजरने वाला एक्सप्रेसवे, दिलाएगा जाम से मुक्ती…

यूपी में बनेगा एक नया एक्सप्रेस्वे, 12 जिलों से गुजरने वाला एक्सप्रेसवे, दिलाएगा जाम से मुक्ती...
यूपी में बनेगा एक नया एक्सप्रेस्वे, 12 जिलों से गुजरने वाला एक्सप्रेसवे, दिलाएगा जाम से मुक्ती...

यूपी में बनेगा एक नया एक्सप्रेस्वे, 12 जिलों से गुजरने वाला एक्सप्रेसवे, दिलाएगा जाम से मुक्ती…


Report By- Khushi Pal


उत्तर प्रदेश- यूपी सरकार ने लिया एख बड़ा फैसला। यूपी में बनने जा रहा है सबसे बड़ा एक्सप्रेसवे दरअसल, यूपीडा ने एक्सप्रेसवे का फाइनल एलाइनमेंट कर दिया है। जानकारी के मुताबिक ये एक्सप्रेसवे यूपी के 12 जिलों से गुजरने वाला है। इस एक्सप्रेसवे से करोड़ो लोगो को जाम से मुक्ती मिलेगी। इसके बनने के बाद लोगो को आने-जाने में काफी आसानी होगी। इसके जरिए गंगा के किनारे औधोगिक विकास की नई पटकथा लिखी जाएगी। ये एक्सप्रेसवे रोजा रेलवे राउंड में गंगा एक्सप्रेसवे की बुनियाद रखेगा।

दो समूह मिलकर करेंगे निर्माण, अडानी और आईआरबी समूह करेगा निर्माण

इस एक्सप्रेसवे के निर्माण का कार्य दो भागो में बांटा गया है। इसका निर्माण दो समूह मिलकर करने वाले है। यूपीडा ने एक्सप्रेस-वे के इस प्रोजेक्ट को 12 पैकेज और चार समूहों में बांटा है। जिनमें से तीन समूहों का काम अडानी ग्रुप पूरा करेगा। दूसरा मेरठ से अमरोहा का हिस्सा आईआरबी इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपर्स बनाएगा। अमरोहा से प्रयागराज तक का निर्माण कार्य अडानी समूह करेगा। यह एक्सप्रेस-वे उन्नाव में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस से लिंक होगा। वहीं, एक्सप्रेस-वे के दोनों ओर इंडस्ट्रियल कॉरिडोर विकसित किए जाएंगे, जहां इंडस्ट्री को जमीन दी जाएगी।

2023 में एक्सप्रेसवे का निर्माण होगा पूरा

पीएम, सीएम के ड्रीम प्रोजेक्ट वाला यह एक्सप्रेस-वे यूपीडा का प्रॉयोरिटी प्रोजेक्ट है। एक्सप्रेस-वे के लिए 94 प्रतिशत जमीन का अधिग्रहण हो चुका है। इस एक्सप्रेसवे के निर्माण का कार्य पूरा करने के लिए चार महीने के अंदर 71,621 किसानों से गंगा एक्सप्रेसवे के लिए 90 फीसद से ज्यादा जमीन खरीदी जा चुकी है। जिसमें अब तक 82,750 किसानों की 94 प्रतिशत जमीन का क्रय एक्सप्रेस-वे के लिए किया जा चुका है। कोरोना के समय भी एक्सप्रेस-वे के लिए जमीन अधिग्रहण चलता रहा। देश में अभी तक जितने भी एक्सप्रेसवे का निर्माण किया गया है उनमें से किसी भी एक्सप्रेस-वे के लिए होने वाले भूमि अधिग्रहण में सबसे तेज अधिग्रहण इसी के लिए किया गया है। सरकार ने इस काम को पूरा करने के लिए एक लक्ष्य तैयार किया है जिसमें उन्होंने इस एक्सप्रेसवे का निर्माण 2023 तक पूरा करने का संकल्प लिया है।

जनता के अलावा अन्य कंपनियों को भी होगा मुनाफा

एक्सप्रेसवे के बनने से सिर्फ आम जनता को ही नहीं बल्कि बड़ी-बड़ी कंपनियों को भी मुनाफा होगा। साथ ही ईंधन और समय की बचत से प्रदूषण कम होगा और पर्यावरण शुद्धिकरण होगा। इसके दोनों तरफ इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनने से इंडस्ट्री को बूम मिलेगा। टूरिज्म की नई संभावनाएं डेवलप होंगी। पूर्वी यूपी से पश्चिमी यूपी को जोड़ने वाले इस एक्सप्रेस-वे से प्रदेश के दोनों छोरों पर औद्योगिक लेन-देन आसानी से हो सकेगा। खाद्य संस्करण इकाईयां, गोदाम, मंडी, मिल्क इंडस्ट्री, डेयरी इंडस्ट्री, लेदर इंडस्ट्री, एजुकेशन, मेडिकल संस्थानों के विकास का रास्ता भी इस एक्सप्रेस-वे से खुलेगा।

गंगा एक्सप्रेसवे जुड़े कुछ खास प्वाइंट

1. 594 किमी लंबा, 6 लेन का यह एक्सप्रेस-वे देश का सबसे लंबा एक्सप्रेस वे होगा

2. 36, 230 करोड़ रुपये इस एक्सप्रेस-वे को बनाने में खर्च होंगे

3. एक्सप्रेस-वे यूपी के12 जिलों और 519 गांवों को जोड़ेगा

4. मेरठ, हापुड़, बुलंदशहर, अमरोहा, संभल, बदायूं, शाहजहांपुर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगढ़, प्रयागराज से होकर गुजरेगा

5. एक्सप्रेस-वे पर 120 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से वाहन दौड़ सकेंगे

6. शाहजहांपुर में एक्सप्रेस-वे पर एयरस्ट्रिप होगी, जहां हेलिकॉप्टर उतारने की व्यवस्था रहेगी

7. मेरठ बुलंदशहर एचएनच 334 में बिजौली गांव से शुरू होकर प्रयागराज एनएच 19 जुडापूर दादू में खत्म होगा।

8. 6 लेन का एक्सप्रेस वे, लंबाई 594 किमी और राइट ऑफ वे 120 मीटर होगा, इसमें 17 जगहों पर इंटरचेंज की सुविधा रहेगी

9. एक्सप्रेस-वे के आस-पास यातायात को आसान करने के लिए स्टैगर्ड रूप में सर्विस रोड रहेगी

10. पूरे एक्सप्रेस-वे में सात आरओबी, 14 फ्लाईओवर, 126 छोटे पुल, 381 अंडर पास होंगे

11. एक्सप्रेस-वे की पूरी लंबाई में नौ जगहों पर जनसुविधा केंद्र यूटिलिटी प्वाइंट्स होंगे, एक्सप्रेस-वे पर ढाबे, पेट्रोल पंप, ट्रॉमा सेंटर भी बनेगा

  • https://todayxpress.com
  • LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here