AIMPLB ने सूर्य नमस्कार का किया विरोध, मुस्लिम बच्चें नहीं होंगे शामिल…

AIMPLB सूर्य नमस्कार का किया विरोध, मुस्लिम बच्चें नहीं होंगे शामिल...
AIMPLB सूर्य नमस्कार का किया विरोध, मुस्लिम बच्चें नहीं होंगे शामिल...

AIMPLB ने सूर्य नमस्कार का किया विरोध, मुस्लिम बच्चें नहीं होंगे शामिल…


Report By- Vanshika Singh


नई दिल्ली- ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने योगासन सूर्य नमस्कार का विरोध किया है. आपको बता दें कि सरकार ने निर्देश जारी किया है कि आजादी के 75 साल पूरे होने पर 1 जनवरी 2022 से 7 जनवरी 2022 तक स्कूलों में सूर्य नमस्कार करवाया जाएगा. इस पर एआईएमपीएलबी ने कहा है कि सूर्य नमस्कार एक तरह से सूर्य की पूजा करना है और इस्लाम में सूर्य की पूजा नहीं की जाती.

वहीं एआईएमपीएलबी के महासचिव मौलाना खालिद सैफुल्लाह रहमानी ने इस वाक्य पर कहा है कि “भारत एक धर्मनिरपेक्ष, बहु-धार्मिक के साथ-साथ बहु-सांस्कृतिक देश भी है. इन्हीं सिद्धांतों के तहत हमारा संविधान लिखा गया था. हमारा संविधान इसकी अनुमति नहीं देता है कि सरकारी शिक्षण संस्थानों में किसी धर्म विशेष की शिक्षाएं दी जाएं या किसी विशेष समूह की मान्यताओं के आधार पर समारोह आयोजित किए जाएं.”

एआईएमपीएलबी के महासचिव यहीं नहीं रुके. उनका कहना है कि “सूर्य नमस्कार एक तरह से सू्र्य की पूजा करना है. इस्लाम धर्म न तो सूर्य को देवता मानता हैं और न ही उसकी उपासना को सही मानता है. इसलिए सराकर का यह फर्ज है कि सरकार ऐसे निर्देशों को वापस लकर देश के धर्मनिरपेक्ष मूल्यों का सम्मान करे”.

एआईएमपीएलबी ने कहा है कि अगर सरकार चाहती है तो वह देश-प्रेम की भावना को जागरूक करने के लिए स्कुल में बच्चों से राष्ट्रगान पढ़वाए. अगर भारत में सरकार देश प्रेम चाहती है, तो देश में बढ़ती बेरोजगारी और महंगाई पर ध्यान दे. साथ ही उन्होंने मुस्लिम बच्चों के लिए कहा है कि सूर्य नमस्कार जैसे कार्यक्रमों में मुस्लिमों के बच्चों को शामिल होने की बिल्कुल जरूरत नहीं है और इससे बचना भी जरूरी है.

  • https://todayxpress.com
  • LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here