मुंबई के सबसे बड़े भ्रष्टाचार पर जून में होगी सबसे बड़ी सुनवाई, एमआईडीसी के अधिकारियों पर गिर सकती है गाज़…

मुंबई के सबसे बड़े भ्रष्टाचार पर जून में होगी सबसे बड़ी सुनवाई, एमआईडीसी के अधिकारियों पर गिर सकती है गाज़...
मुंबई के सबसे बड़े भ्रष्टाचार पर जून में होगी सबसे बड़ी सुनवाई, एमआईडीसी के अधिकारियों पर गिर सकती है गाज़...

मुंबई के सबसे बड़े भ्रष्टाचार पर जून में होगी सबसे बड़ी सुनवाई, एमआईडीसी के अधिकारियों पर गिर सकती है गाज़…


Report By- Vanshika Singh


मुंबई- देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में कुछ दिनों पहले बड़े पैमाने पर झुग्गी झोपड़ियों को तोड़ने-फोड़ने का काम हुआ, तोड़फोड़ का ये काम एमआईडीसी ने किया, उसके बाद से बहुत से ऐसे परिवार हैं जिनको सर्वे करने के बाद पुनर्वासन दिया गया लेकिन मुंबई के अंदर तानाजी केसरे के भी दो मकान थे। इन मकानों को एमआईडीसी के कर्मचारियों ने और अधिकारियों ने गिरा दिया, लेकिन सालों बीतने के बाद भी आज तक तानाजी का पुनर्वासन नहीं किया गया, तानाजी केसरी लगातार एमआईडीसी के अधिकारियों के पास चक्कर काट रहे हैं, तानाजी केसरे का कहना है कि उनके पास इस पूरे मामले से जुड़े कुछ ऐसे दस्तावेज हैं जिनसे अधिकारियों की नीद हराम हो सकती है, Today xpress ने तानाजी केसरे से बातचीत की तानाजी केसरी ने बताया पुलिस के कुछ अधिकारियों ने कई पत्र उनके घर तक नहीं पहुंचने दिए, एमआईडीसी के अधिकारियों में भी पूरी तरीके से भ्रष्टाचार व्याप्त है फिलहाल तानाजी केसरी ने जिला अधिकारी को भी पत्र लिखा और एमआईडीसी के कार्यालय में लगातार चक्कर लगाते रहे इस पूरे मामले पर एमआईडीसी के अधिकारियों की सबसे बड़ी लापरवाही सामने आई है, तानाजी केसरे ने बताया जिन लोगों को मकान आवंटित किया गया है उसमें भी एमआईडीसी में बहुत बड़ा झोल किया है एमआईडीसी ने एक व्यक्ति के नाम पर दो फ्लैट बनाए हैं और उनको ओने पौने दाम पर भेज भी दिया है, तानाजी केसरी का कहना है अगर जांच हो तो एमआईडीसी के अधिकारी नपेंगे और भ्रष्टाचार का खुलासा होगा।

आपको बता दें कि 4.10.2011 को तानाजी केसरी के मकान को एमआईडीसी के कर्मचारियों ने सर्वे करने के बाद ध्वस्त कर दिया जिसके बाद तानाजी लगातार गरीबी में जीवन यापन कर रहे हैं, सभी को छत दे दिया गया लेकिन तानाजी आज भी दरबदर भटक रहे हैं फिलहाल तानाजी केसरी ने अपनी लड़ाई से हार नहीं मानी वह पुलिस स्टेशन से लगाए एमआईडीसी के अधिकारियों तक दबाव बनाते रहे पत्र लिखते रहे इस बीच तानाजी केसरी की मेहनत रंग लाती नजर आ रही है, दरअसल अभी भ्रष्टाचार के इस मामले पर तानाजी केसरी एक बड़ा सबूत और दस्तावेज लोकायुक्त के सामने जून महीने में रखने जा रहे हैं लोकायुक्त के सामने मुंबई की सबसे बड़े भ्रष्टाचार का खुलासा भी तानाजी केसरी करेंगे, लोकायुक्त जांच के बाद यह तय हो जाएगा की कैसे अधिकारियों ने बंदरबाट किया है और कैसे एक आम आदमी को परेशान किया है। लोकायुक्त वह ताकत है जो किसी भी राज्य में जुड़े भ्रष्टाचार के मामलों पर अपना पक्ष मजबूती के साथ रखती और सुनती है तानाजी को लोकायुक्त से बहुत उम्मीदें हैं ताकि एमआईडीसी के अधिकारियों को उनके किए की सजा मिल सके और ताना जी को अपने सपनों का आशियाना मिल सके।

  • https://todayxpress.com
  • LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here