Union Budget 2022: बजट 2022 की ये बड़ी उम्मीदें, जानें कैसा होगा इस साल का बजट?

Union Budget 2022
Union Budget 2022

Union Budget 2022: बजट 2022 की ये बड़ी उम्मीदें, जानें कैसा होगा इस साल का बजट?

Budget 2022:  देश का आम बजट पेश होने जा रहे हैं… बीते वित्त वर्ष की बात करें तो साल 2021 के बजट में टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया गया था… ऐसे में इस बार उम्मीद है कि सरकार कोई बड़ी घोषणा कर सकती है… इसके अलावा, रक्षा, MSME, स्वास्थ्य, इंफ्रास्ट्रक्चर, रियल एस्टेट, और हॉस्पिटैलिटी और एमएसएमई सेक्टर समेत अन्य क्षेत्रों के लिए कोरोना के दौर में बड़ी घोषणाएं और राहत पैकेज का एलान किया जा सकता है…देश का आम बजट फरवरी 2022 को पेश होने जा रहा है… केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अपना चौथा बजट देश के सामने रखेंगी…

हेल्थकेयर सेक्टर में आवंटन बढ़ने की उम्मीद

कोरोना के इस दौर में फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्री को काफी उम्मीद है… इस बजट में हेल्थ केयर सेक्टर के लिए फंड में बढ़ोतरी होगी… साथ ही व्यापार को आसान बनाने के लिए सरल करने की मांग उठाई गई है… इस बार कोविड-19 में बढ़ती असमानता को दूर करने के लिए वेल्थ टैक्स और विरासत कर को फिर से शुरू किए जाने की उम्मीद जता रहे हैं…

हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में उम्मीद

हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में कोरोना महामारी का सबसे ज्यादा असर हुआ है… इस महामारी का खामियाजा भुगत रहे हॉस्पिटैलिटी क्षेत्र को बजट  में एक बहाल GST इनपुट टैक्स क्रेडिट की उम्मीद है… वहीं रेस्टोरेंट व्यवसाय को एक और लॉकडाउन से बचाने के लिए उम्मीद भरी नजरों से देख रहा हैं…

किसानों को मिलेगी बड़ी सौगात!

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत देश के किसानों को दी जाने वाली आर्थिक सहायता राशि में बढ़ोत्तरी हो सकती है… इस योजना के तहत किसानों को अभी 6 हजार रुपए सालाना रकम दी जाती है… वहीं एक फरवरी को वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पेश किए जाने वाले बजट में इस राशि को बढ़ाए जाने का एलान हो सकता है… पीएम किसान योजना की राशि को बढ़ाकर 8 हजार रुपए किए जाने की उम्मीद है…

स्टैंडर्ड डिडक्शन में इजाफा

बजट 2022 से वेतन भोगियो को इस बार बड़ी उम्मीदें हैं… दरअसल इस समय धारा 16 के तहत स्टैंडर्ड डिडक्शन की राशी 50 हजार रुपए तय है… लंबे समय से इसको बढ़ाकर एक लाख किये जाने की मांग मांग की जा रही है… वेतन भोगियों को उम्मीद है की इसको बढ़ाया जाए… इसे बढ़ाए जाने से वेतन भोगियो को सीधा लाभ होगा…

वर्क फ्रॉम होम अलाउंस टैक्स में मिल सकती है छूट

कोरोना के मद्देनजर कर्मचारी वर्क फ्रॉम होम कर रहे है… ऐसे में उनका इलेक्ट्रिक, इंटरनेट चार्ज, किराया, फर्नीचर आदि पर खर्चा बढ़ गया है…. इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया ने भी वर्क प्रॉम होम के तहत घर से काम करने वालों को अतिरिक्त टैक्स छूट दी जा सकती है…

इंश्योरेंस में GST से राहत

इस बजट में सरकार का ज्यादा जोर देश के करदाताओं पर रहने की उम्मीद है… क्योंकि पिछले कई बजट में करदाताओं के लिए कोई नई घोषणा नहीं की गई है… इस बार के बजट में इंश्योरेंस/मेडिक्लेम प्रीमियम पर लगने वाले GST कम करने की उम्मीद भी करदाताओं को है… वित्त मंत्रालय के सूत्रों की मने तो इस मांग को सरकार की ओर से बजट 2022 में शामिल किया जा सकता है…

ऑटोमोबाइल क्षेत्र को मिल सकती है राहत

घरेलू आटोमोबाइल सेक्टर पिछले दो दशकों के सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है, देश के कुल GDP में आटोमोबाइल सेक्टर का योगदान 7.5 प्रतिशत है, जबकि यह प्रत्यक्ष और परोक्ष तौर पर 10 लाख लोगों को रोजगार देता है…

डिजिटल इंडिया को उम्मीद

जानकारों की माने तो अर्थव्यवस्था में वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान शानदार ग्रोथ नजर आई और देश फिर से विकास की राह पर अग्रसर है… अगर सरकार रिफॉर्म बनाए रखती है तो इससे 2022 में भी रिकवरी तेज होगी और इकोनॉमी बूस्टर का टेम्पो बना रहेगा… स्टार्टअप गतिविधियों और सरकार के राहत पैकेज से भारत में ईज ऑफ डुइंग बिजनेस को बढ़ावा मिलेगा…

रियल एस्टेट क्षेत्र को ये है उम्मीद

इस साल का केंद्रीय बजट टैक्स और वेवर में कुछ प्रमुख छूट, रॉ मैटेरियल पर GST में कटौती की पेशकश कर रीयल एस्टेट क्षेत्र में सहायक भूमिका निभा सकता है… क्योंकि यह क्षेत्र देश की GDP में सबसे बड़े योगदान देता है,  इस क्षेत्र को मजबूत करने से संबद्ध आर्थिक गतिविधियों को भी बढ़ावा मिलेगा, जिससे समग्र रूप से अर्थव्यवस्था में सकारात्मक बदलाव आएगा…

कोरोना मरीज और उनके परिजनों को राहत

कोरोना महामारी के चलते कई लोगों के रोजगार छिन गए तो कई की आय बिल्कुल कम हो गई… ऐसे में आम लोग बजट 2022 को उम्मीदों से देख रहे हैं… कोरोना महामारी के दौरान कई कोरोना मरीजों और उनके परिवारों को केंद्र सरकार, राज्य सरकारों, कंपनियों, दोस्तों और समाज सेवकों से वित्तीय सहायता मिली लेकिन बहुत से लोगों को यह पूरी लड़ाई अपने बूते लड़नी पड़ी… ऐसे लोगों को कोरोना के इलाज पर हुए खर्च पर डिडक्शन का फायदा देने पर सरकार विचार कर सकती है…  

MSME को बजट से बड़ी उम्मीदें

कोरोना से सबसे प्रभावित MSME सेक्टर की मांग है कि  की दरों को इस सेक्टर के लिए उपयुक्त बनाया जाए और इस सेक्टर के लिए टैक्स की दरों को कम किया जाए…. उत्पादन में गिरावट, नौकरियों में कमी, राजस्व में कटौती जैसी कई समस्याओं का सामना MSME सेक्टर को पिछले दो सालों में करना पड़ा है… ऐसे में MSME की सबसे बड़ी मांग है कि GST की दरों पर एक बार फिर विचार किया जाना चाहिए…

क्रिप्टोकरेंसी को लेकर आस

सरकार इस बजट में क्रिप्टोकरेंसी की खरीद-बिक्री को कर के दायरे में लाने पर विचार कर सकती है… सरकार इस बजट में एक निश्चित सीमा से ऊपर क्रिप्टोकरेंसी की बिक्री और खरीद पर TDS/TCS लगाने पर विचार कर सकती है…


यह भी पढ़ें- 

अब इंडिया गेट पर नहीं होंगे अमर जवान ज्योति के दीदार, यहां जानिए पूरा विवाद?

  • https://todayxpress.com
  • 4 COMMENTS

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here