Dhanteras 2021 news: जानिए कैसे धनतेरस मनाने से बरसेंगे कुबेर!

Dhanteras 2021 news: जानिए कैसे धनतेरस मनाने से बरसेंगे कुबेर!

धनतेरस का त्योहार आने वाला है और धनतेरस क्यों मनाया जाता है, क्या परंपरा है धनतेरस की, क्या विधि-विधान है धनतेरस के और किन देवी देवताओं की पूजा की जाती है धनतेरस के दिन, इन सभी प्रश्नों की जानकारी आज हम आपको इस विडियो के माध्यम से देंगे… धनतेरस क्यों मनाया है सबसे पहले आप ये जान ले… शास्त्रों के मुताबिक, समुंद्र मंथन के दौरान कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी पर भगवान धन्वंतरि हाथों में कलश लिए समुंद्र से प्रकट हुए थे… भगवान धन्वंतरि को भगवान विष्णु का अंशावतार माना जाता है… भगवान धन्वंतरि के प्रकट होने के उपलक्ष्य में ही हिंदू धर्म में धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है… इसलिए यह पर्व धन के साथ स्वास्थ्य से भी जुड़ा है…

अब आपको बताते है धनतेरस से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

 कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को धन त्रयोदशी या धनतेरस के नाम से जाना जाता है… विश्व प्रसिद्ध त्योहार दिवाली का प्रारंभ धनतेरस से ही होता है… धनतेरस के दिन माता लक्ष्मी, कुबेर और देवताओं के वैद्य भगवान धन्वंतरि की पूजा विधि विधान से की जाती है… इस वर्ष धनतेरस का त्योहार 02 नवंबर दिन मंगलवार को है… इस दिन लोग सोना, चांदी, आभूषण, वाहन, घर, प्लॉट आदि की खरीदारी करते हैं… धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, धनतेरस के दिन शुभ मुहूर्त में इन वस्तुओं की खरीदारी धन, वैभव में वृद्धि करने वाला माना जाता है… हालांकि धनतेरस पर कुछ ऐसे भी काम होते हैं, जिनको करने से बचना चाहिए… अगर आप गलती से भी उन काम को करते हैं, तो हो सकता है कि आप पर माता लक्ष्मी की कृपा न हो.. तो ऐसे कौन से कार्य है जिसको करने से बचा जाना चाहिए वो अब आपको बताएंगे…

कांच या ऐसी मूर्ति की पूजा न करें

धनतेरस के दिन लोग माता लक्ष्मी, कुबेर और भगवान धन्वंतरि की पूजा करते हैं… इस दिन आपको ध्यान रखना ​है कि आप कांच या प्लास्टर ऑफ पेरिस से बनी हुई मूर्तियों का पूजन न करें… क्योंकि ऐसा करने से आपके ऊपर माता लक्ष्मी की कृपा नहीं होगी… तो जो लोग अभी तक ऐसा कर रहे थे वो अब इन कार्यों को करने से बचे…

दिन में सोना मना होता है… जी हां, धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, व्यक्ति को दिन में नहीं सोना चाहिए… धनतेरस और दिवाली को दिन में सोने से आलस्य और नकारात्मकता आती है… इस दिन परिवार के सदस्यों को प्रेम और सौहार्दय से रहना चाहिए… घर में कलह और झगड़े से बचना चाहिए, क्योंकि जहां अशांति फैली रहती है वहां मां लक्ष्मी का प्रवेश नहीं होता, और वहां हर समय दुख और अशांति का ही माहौल बना रहता है…

किसी भी व्यक्ति को उधार न दें… ऐसी मान्यता है कि दिवाली और धनतेरस के दिन किसी को भी रुपये उधार नहीं देना चाहिए… लोक मान्यता है कि ऐसा करने से हमारे घर में आने वाली लक्ष्मी दूसरे के पास चली जाती हैं… हालांकि जरुरतमंद की मदद करना भी पुण्य का काम होता है.. किंतु त्यौहारो के दिन उधार देने से बचें…

घर में कूड़ा और गंदगी न रखें… कहा जाता है कि माता लक्ष्मी उस स्थान पर ही निवास करती हैं, जो साफ-सुथरी और सकारात्मक वातावरण वाला होता है… ऐसे में आपको भी दिवाली और धनतेरस पर घर की अच्छे से साफ सफाई करनी चाहिए… दिवाली आने से पहले लोग अपने घरों की सफाई करवाना शुरू कर देते है, साथ ही घर की साज- सज्जा का भी ध्यान रखते है… जिससे मां लक्ष्मी का प्रवेश उनके घर में हो और हमेशा बना रहे… सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण ध्यान रखने वाली बात यहीं है कि घर में कूड़ा, रद्दी और गंदगी न हो।

जूता-चप्पल का स्थान प्रवेश द्वार पर ना हो… वास्तुशास्त्र में घर के मुख्य दरवाजे का बहुत ही महत्व होता है… उसे सकारात्मकता का वाहक माना जाता है… घर के मुख्य दरवाजे के ठीक सामने कोई पेड़, बीम या कोई रुकावट नहीं होनी चाहिए, प्रवेश आसान होना चाहिए… घर के मुख्यद्वार को सजाकर रखें और वहां पर जूता-चप्पल नहीं रखे… धनतेरस और दिवाली के दिन माता लक्ष्मी का आगमन मुख्यद्वार से ही होगा… ऐसे में उसे साफ, सुथरा और सुंदर रखें…

  • https://todayxpress.com
  • 1 COMMENT

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here