Vaishno Devi: 2022 के पहले ही दिन वैष्णो देवी माता के मंदिर में बड़ा हादसा, भगदड़ से 13 की मौत, कई घायल, यह रही हादसे की वजह!

Vaishno Devi: 2022 के पहले ही दिन वैष्णो देवी माता के मंदिर में बड़ा हादसा
Vaishno Devi: 2022 के पहले ही दिन वैष्णो देवी माता के मंदिर में बड़ा हादसा

Vaishno Devi: 2022 के पहले ही दिन वैष्णो देवी माता के मंदिर में बड़ा हादसा, भगदड़ से 13 की मौत, कई घायल, यह रही हादसे की वजह!

Vaishno Devi Temple : नए साल यानी 2022 की शरुआत एक बड़े हादसे के साथ हुई…दरअसल जम्मू के वैष्णो देवी माता मंदिर में दर्शन के लिए पहुंचे श्रद्धालु पहुंचे छे जहां देवी भवन में भगदड़ मच गई… इस हादसे में कई लोगों की मौत हो गई, जबकि कई लोग घायल हैं… प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित तमाम नेताओं ने इस हादसे पर दुख जताया है… वहीं प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष की ओर से मरने वालों के परिजनों को 2 लाख रुपये देने का ऐलान किया गया है… तो वहीं जम्मू-कश्मीर एलजी की ने हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के परिवार वालों को 10 लाख रुपए देने की घोषणा की है… मरने वालों में महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं… घायलों को बाणगंगा अस्पताल में भर्ती कराया गया है… श्राइन बोर्ड घायलों के इलाज का खर्च उठाएगा…

प्रशासन ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर

माता वैष्णो देवी भवन में नए साल पर हुए बड़े हादसे के बाद उपराज्यपाल ने अधिकारियों से जानकारी मांगी है… वहीं घटना के बाद हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए गए हैं… 

श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड हेल्पलाइन नंबर
01991-234804
01991-234053

अन्य हेल्पलाइन नंबर
पीसीआर कटरा 01991232010/9419145182
पीसीआर रियासी 0199145076/9622856295
डीसी कार्यालय रियासी नियंत्रण कक्ष
01991245763/9419839557

यह बताई जा रही हादसे की वजह

वहीं केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने इस घटना की वजह बताते हुए कहा कि ढलान पर खड़े दो श्रद्धालुओं के बीच किसी बात को लेकर बहस हो गई थी जिससे उन्होंने एक-दूसरे को धक्का दे दिया और इसी के बाद भगदड़ मच गई… मृतकों में दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और जम्मू-कश्मीर के एक-एक श्रद्धालु शामिल हैं… 

रोका जा सकता था हादसा

बता दें कि जम्मू-कश्मीर में स्थित वैष्णो देवी मंदिर में हर रोज हजारों लोग दर्शन के लिए आते हैं… इसे उत्तर भारत का सबसे सिक्योर मंदिर कहा जाता है और CRPF और जम्मू-कश्मीर पुलिस इसकी सुरक्षा करते हैं… 13 लोगों की जान जाने के बाद सवाल ये है कि उत्तर भारत के सबसे सिक्योर मंदिर के रूप में मशहूर वैष्णो देवी में हादसा हुआ क्यों…

हादसे के वाले दिन शुक्रवार-शनिवार की रात होने के कारण दिल्ली और हरियाणा के श्रद्धालुओं की बड़ी संख्या यहां पहुंची… कटड़ा बस स्टैंड से लेकर बाणगंगा की चेकपोस्ट तक श्रद्धालुओं की भारी भीड़ होती रही, लेकिन नीचे से ही भीड़ को रोकने का कोई इंतजाम नहीं हुआ… 12 किलोमीटर की यात्रा के बाद लोग मंदिर पर पहुंचे और जिस वक्त हादसा हुआ उस वक्त मंदिर भवन पर 50 हजार से अधिक की भीड़ बातई जा रही है और कोटा 25 हजार का ही था… लेकिन सारी व्यवस्थाएं इग्नोर कर लोगों को नहीं रोका गया और भीड़ में एक बड़ा हादसा हो गया…

  • https://todayxpress.com
  • LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here