राजनीतिक पार्टियों में महिलाओं के प्रति कितना है सम्मान? हैरान करने वाले आंकड़े आए सामने!

राजनीतिक पार्टियों में महिलाओं के प्रति कितना है सम्मान
राजनीतिक पार्टियों में महिलाओं के प्रति कितना है सम्मान?

 महिलाओं के प्रति राजनीतिक पार्टियों में कितना है सम्मान? हैरान करने वाले आंकड़े आए सामने!

 

UP Election 2022: देश में चाहे लोकसभा चुनाव हो या फिर विधानसभा हर राजनीतिक दलों का पूरा फोकस महिला वोटर्स पर सबसे ज्यादा रहता है… बड़े से बड़ा नेता भी घर-घर जाकर महिलाओं के सामने हाथ जोड़कर वोट मांगता है… महिलाओं के लिए चुनावी वादे किए जाते हैं… सभी बड़ी पार्टियां यही दावा करती हैं कि उनके यहां महिलाओं का काफी सम्मान होता है… वह महिलाओं के हक के लिए सबसे ज्यादा खड़े होते हैं… लेकिन आंकड़े कुछ और ही बंया कर रहे हैं…यानी ये आंकड़े हैरान करने वाले हैं…हम दावा करते हैं कि ये आंकड़े जहां जनता को हैरान करने वाले है वहीं राजनैतिक पार्टियों को परेशान करने वाले हैं…

बात अगर पहले चरण की करें तो 10 फरवरी को उत्तर प्रदेश में पहले चरण का मतदान हुआ… 58 सीटों पर 623 प्रत्याशी मैदान में थे… इनमें महिलाओं की संख्या महज 74 यानी 12 फासदी थी… बाकी 549 पुरुष प्रत्याशी थे… किसी भी पार्टी ने महिलाओं को 50 फासदी भागीदारी देना तो छोड़िए सही से 30 फसदी भी नहीं दी… टिकट बंटवारे में पुरुष ही हावी रहे… सबसे ज्यादा खराब स्थिति समाजवादी पार्टी में देखने को मिल रही है जहां महिलाओं को टिकट देने में सपा सबसे पीछे रही…  

इन आंकडो पर नजर डालें तो कांग्रेस ने 28 फीसदी महिलाओं को टिकट दिया जबकि BJP  ने 12 फीसदी महिलाओं को टिकट दिया…वहीं बसपा और सपा     ने महज 7 फीसदी महिलाओं को ही टिकट दिया…  

वहीं दूसरे चरण की बात करें तो 55 सीटों पर 586 प्रत्याशियों ने किस्मत आजमाई… इसमें भी महिलाओं की स्थिति दयनीय रही… सभी राजनीतिक दलों ने मिलकर केवल 12 फीसदी यानी 69 महिलाओं को टिकट दिया था…

इन आंकडो पर नजर डालें तो कांग्रेस ने 37 फीसदी महिलाओं को टिकट दिया जबकि BJP  ने 9 फीसदी महिलाओं को टिकट दिया… वहीं बसपा ने 7 तो सपा ने

6 फीसदी महिलाओं को टिकट दिया बात अगर सपा के गठबंधन वाली पार्टी आरएलडी की करे तो उसने किसी भी महिला को टिकट नहीं दिया…

हालांकि तीसरे चरण में स्थिति थोड़ी ठीक नजर आई… पहले और दूसरे चरण के मुकाबले तीसरे चरण में महिला प्रत्याशियों की संख्या थोड़ी नजर आई…  पहले और दूसरे फेज में जहां 12 फासदी महिला प्रत्याशी मैदान में थीं, वहीं तीसरे चरण में ये आकंड़ा 15 फासदी हो गया यानी इसमें 3 फासदी का इजाफ हुआ…. इस चरण में कुल 627 प्रत्याशी चुनावी मैदाने में थे… इनमें से 96 यानी 15 फीसदी महिला प्रत्याशी को टिकट मिला… 3 चरण में कांग्रेस ने 45 फासदी तो BJP 16 फीसदी वहीं बसपा     ने 12 तो सपा ने 9 फासदी महिलाओं को टिकट दिया…

भले ही महिलाओं को टिकट देने में राजनीतिक दल काफी पीछे रहते हो, लेकिन मतदाता सूची में महिलाओं की हिस्सेदारी करीब-करीब बराबरी की है…

पहले चरण में कुल 2 करोड़ 28 लाख  मतदाता थे इनमें 1 करोड़ 24 लाख पुरुष तो वहीं 1 करोड़ 4 लाख महिला वोटर्स थी…  

दूसरे चरण में 2 करोड़ 2 लाख मतदाता थे… इनमें 1 करोड़ 7 लाख पुरुष मतदाता, जबकि 93 लाख वोटर्स महिलाएं थीं…

तीसरे चरण में 2 करोड़ 15 लाख मतदाता थे जिनमें 1 करोड़ 16 लाख पुरुष, जबकि 99 लाख महिला वोटर्स थी…

तो इस बात से अंदाजा लगा सकते हैं कि हमारे देश की राजनैतिक पार्टियां महिलाओं को लेकर गितनी गंभीर हैं… उन्हें महिलाओं में केवल वोटर नजर आती हैं प्रत्याशी नहीं….

  • https://todayxpress.com
  • 1 COMMENT

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here