अहमदाबाद सीरियल ब्लास्ट में आरोपी पए गए 49 में से 38 दोषियो को सुनाई गई फांसी की सजा, 11 को आजीवन कारावास की सजा…

अहमदाबाद सीरियल ब्लास्ट में आरोपी पए गए 49 में से 38 दोषियो को सुनाई गई फांसी की सजा, 11 को आजीवन कारावास की सजा...
अहमदाबाद सीरियल ब्लास्ट में आरोपी पए गए 49 में से 38 दोषियो को सुनाई गई फांसी की सजा, 11 को आजीवन कारावास की सजा...

अहमदाबाद सीरियल ब्लास्ट में आरोपी पए गए 49 में से 38 दोषियो को सुनाई गई फांसी की सजा, 11 को आजीवन कारावास की सजा…


Report By- Janamjay Kumar


अहमदाबा- जुलाई 2008 अहमदाबाद में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के 49 दोषियों में से 38 को अदालत ने सुनाई फांसी की सजा. 8 फरवरी को कोर्ट ने आरोपियों को दोषी करार दिया था.

स्पेशल कोर्ट ने सीरियल बम ब्लास्ट के मामले में दोषियों की सजा का ऐलान कर दिया है. 49 में से 38 दोषियों को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है, जबकि 11 दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है. कोर्ट ने सभी दोषियों को सजा सुनाने के साथ-साथ सभी पीड़ितों को मुआवजा देने का भी दिया आदेश. इन धमाकों में मारे गए लोगों के परिजनों को कोर्ट ने 1 लाख रुपये का मुआवजा देने का भी आदेश दिया है. वही मामूली घायलों को 25 हजार रुपये और गंभीर रूप से घायल हुए लोगों को 50 हजार रुपये देने को कहा.

बता दे की इस मामले की सुनवाई 13 साल तक चल रही थी. इस सीरियल ब्लास्ट में कुल 78 आरोपी थे जिसमे से 1 आरोपी सरकारी गवाह बना था. इस वजह से कुल 77 आरोपी बने और फिर 8 फरवरी को स्पेशल कोर्ट ने 49 लोगों को दोषी करार दिया था. वही 28 आरोपियों को किया गया था बरी. इस मामले की 13 साल तक चली सुनवाई के दौरान कुल 1,163 गवाहों के बयान किए गए थे दर्ज. 6 हजार से ज्यादा सबूत पेश किए थे पुलिस और कानूनी एजेंसियों के द्वारा. ऐसा पहली बार हुआ है जब एक साथ 49 आरोपियों को आतंकवाद के आरोप में ठहराया गया है दोषी. आईपीसी की धारा 302 (हत्या) और UAPA के तहत सभी दोषियों को दोषी करार दिया गया है.

बता दे की 26 जुलाई 2008 को अहमदाबाद में शाम 6 बजकर 45 मिनट पर पहला बम धमाका हुआ था और फिर 70 मिनट में हुए थे 21 धमाके. मणिनगर में हुआ था ये धमाका. उस समय मणिनगर के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी थे. 56 लोगों की मौत हो गई थी इन धमाकों में और 200 से ज्यादा लोग हुए थे घायल. इंडियन मुजाहिदीन ने 2002 में गोधरा कांड का बदला लेने के लिए ये बम धमाके किए थे.  टिफिन में बम रखकर उसे साइकिल पर रख दिया था आतंकियों ने. ये धमाके भीड़ भाड़ और बाजार वाली जगहों पर हुए थे. बता दे की धमाकों से 5 मिनट पहले न्यूज एजेंसियों को एक मेल भी किया था आतंकियों ने, जिसमें उन आतिंकियो ने लिखा था, ‘जो चाहो कर लो. रोक सकते हो तो रोक लो.’

  • https://todayxpress.com
  • 1 COMMENT

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here