Uttarakhand Election 2022: आसान नहीं होगी कांग्रेस में हरक सिंह रावत की राह

Uttarakhand Election 2022
Uttarakhand Election 2022

Uttarakhand Election 2022: आसान नहीं होगी कांग्रेस में हरक सिंह रावत की राह



आसान नहीं होगी कांग्रेस में हरक सिंह रावत की राह

BJP से निष्कासित होने के बाद हरक के पास विकल्प 



 

Uttarakhand Election 2022: उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में दल बदल के खेल के बीच सरकार में कैबिनेट मंत्री और कोटद्वार से विधायक हरक सिंह रावत को सरकार के साथ-साथ पार्टी से भी BJP ने बाहर कर दिया …जिसके बाद चर्चा है कि हरक सिंह रावत एक से दो विधायकों के साथ वापस कांग्रेस में जा सकते हैं… दरअसल BJP से निष्कासित होने के बाद हरक सिंह रावत नए विकल्प तलाश रहे हैं… उनके पास सबसे आसान विकल्प वापस कांग्रेस में जाना है… इसके अलावा वो बसपा या आम आदमी पार्टी के साथ जा सकते हैं…साथ ही एक विकल्प निर्दलीय मैदान में उतरने का भी है… फिलहाल कयास ये लगाए जा रहे हैं कि हरक सिंह छह साल बाद फिर से घर वापसी यानी कांग्रेस में जा सकते हैं… लेकिन अगर कांग्रेस में हरक सिंह की वापसी हो भी जाती है तो उनकी रहा आसान नहीं होगी…दरअसल साल 2016 में 9 विधायकों के साथ हरक सिंह रावत ने जो चाल चली थी, अब वो उन्ही पर भारी पड़ सकती है…

 

बता दें कि साल 2016 में कांग्रेस की सरकार थी और 9 विधायकों ने अपनी ही पार्टी से बगावत कर ली थी जिनमें हरक सिंह रावत की भूमिका अहम थी… इसके बाद हरीश रावत सरकार को हटाकर राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाना पड़ा था… मामला सुप्रीम कोर्ट में हालांकि हरीश रावत सरकार तो लौट आई लेकिन ज्यादा दिन तक नहीं टिकी और हरक सिंह समेत सभी बागियों ने BJP का दामन थाम लिया… बताया जा रहा है कि त्रिवेंद्र सिंह रावत से उनके मतभेद होते रहे… श्रम मंत्रालय को लेकर त्रिवेंद्र सरकार से नाराजगी रही, पुष्कर सिंह धामी के आने के बाद भी सियासी खिंचतान जारी रही… तब हरक सिंह रावत ने कोटद्वार में मेडिकल कॉलेज को मान्यता नहीं दिए जाने के आरोप में कैबिनेट बैठक में ही अपना इस्तीफा सौंप दिया था, हालांकि बाद में BJP उन्हें मनाने में कामयाब रही…

हरक के सामने कांग्रेस में ये हैं मुश्किलें?

2016 में हरक सिंह समेत जो विधायकों ने किया था अब उनकी वापसी को लेकर कांग्रेस में विरोध शुरू हो गया है… पूर्व मुख्यमंत्री हरीश सिंह रावत ने ऐसे विधायकों को महापापी बताया और कहा कि जिन महापापी लोगों ने 2016 में कांग्रेस की सरकार गिराने का महापाप किया, जब तक वे सार्वजनिक रूप से अपनी गलती मानते हुए माफी नहीं मांगते, तब तक कांग्रेस में उनकी वापसी नहीं होगी…

BJP से क्यों निकाले गए रावत?

बताया जा रहै है कि चुनाव आते ही हरक सिंह के बगावती सुर तेज होने लगे थे… वह विधानसभा चुनाव के लिए तीन सीट पर टिकट मांग रहे थे… एक खुद के लिए, दूसरा रिश्तेदार के लिए और तीसरा अपनी बहू के लिए… जबकि BJP सिर्फ एक परिवार एक टिकट के फॉर्मूले पर अड़ी थी… इसके बाद हरक ने पार्टी की बैठकों में भी शामिल होना भी बंद कर दिया था… जिससे BJP असमंजस में थी…

  • https://todayxpress.com
  • 16 COMMENTS

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here