डब्ल्यूएचओ की दुनिया को चेतावनी, कोरोना के आएंगे नए वैरिंएट…

डब्ल्यूएचओ की दुनिया को चेतावनी, कोरोना के आएंगे नए वैरिंएट...
डब्ल्यूएचओ की दुनिया को चेतावनी, कोरोना के आएंगे नए वैरिंएट...

डब्ल्यूएचओ की दुनिया को चेतावनी, कोरोना के आएंगे नए वैरिंएट…


Report By- Vanshika Singh


नई दिल्ली- भारत के लिए अब खुशी खबरी है, देश में कोरोना वायरस के मामले कम होते जा रहे है. दरअसल, कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट की वजह से कई देशों की अपेक्षा भारत से कम प्रभावी रही. अगर अब आप यह सोच रहे है कि कोरोना का ओमिक्रॉन, कोरोना का आखरी वैरिएंट था और अब इस कोरोना महामारी से दुनिया को आजादी मिल जाएगी, तो आपकी सोच अभी गलत साबित हो सकती है.

असल में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के वैज्ञानिकों ने यह दावा किया है कि कोरोना के नए वैरिएंट के आने का सिलसिला अभी थमने वाला नहीं है. डब्ल्यूएचओ में कोविड-19 की टेक्नोलॉजी हेड मारिया वॉन का कहना है कि कोरोना का आने वाला नया वैरिएंट अब तक के वैरिएंट्स से भी ज्यादा प्रभावी होगा. सुत्रों के मुताबिक कहा जा रहा है कि आने वाला नया वैरिएंट और भी ज्यादा संक्रामक होगा, क्योंकि यह मौजूद जैसे ओमिक्रॉन वैरिएंट को ओवरटेक करके बनेगा. यह नया वैरिंएट गंभीर और मध्यम कुछ भी हो सकता है.

अगर नया वैरिंएट ज्यादा प्रभावी रहा तो हमारी प्रतिरक्षा को भी चकमा दे सकता है. दरअसल, किसी भी वायरस को सर्वाइव करने के लिए वह खुद में बदलाव करता रहता है. लेकिन कई वायरस ऐसे भी होते है, जिनको बदलाव करने की जरूरत नहीं होती, वहीं कुछ वायरस प्रतिरक्षा और वैक्सीन के अनुसार खुद में बदलाव करते हैं. कोरोना के डेल्टा और ओमिक्रॉन ऐसे ही दो वैरिएंट थे.

ऐसे में अगला वैरिएंट इनसे खतरनाक साबित हो सकता है. चाहें ओमिक्रॉन का असर हमारे देश में बहुत कम देखने को मिला हो, लेकिन यह कई देशों में बहुत ज्यादा प्रभावी रहा है. डब्ल्यूएचओ के मुताबिक पिछले साल के नवंबर में ओमिक्रॉन को चिंताजनक वैरिएंट घोषित किया था. जिसके बाद इस वैरिंएट से पूरी दुनिया में पांच लाख मौतें हो गई है और अब तक ओमिक्रॉन से 13 करोड़ लोगों संक्रमित हो चुके है.

ओमिक्रॉन के बारे में शुरू से ही कहा गया था कि यह बेहद संक्रामक होगा. यह वैरिंएट अब भी दुनियाभर में सक्रिय है. लेकिन ओमिक्रॉन ने भारत में डेल्टा वैरिएंट के मुकाबले ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचाया है, वहीं पूरी दुनिया में इसके मामलों को देखें तो ओमिक्रॉन के संक्रामितों की संख्या बहुत ज्यादा रहीं है.

  • https://todayxpress.com
  • 1 COMMENT

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here