योगी ने दलित के घर खाया खाना, भ्रष्टाचारी नहीं लड़ सकते न्याय की लड़ाई…

योगी ने दलित के घर खाया खाना, भ्रष्टाचारी नहीं लड़ सकते न्याय की लड़ाई...
योगी ने दलित के घर खाया खाना, भ्रष्टाचारी नहीं लड़ सकते न्याय की लड़ाई...

योगी ने दलित के घर खाया खाना, भ्रष्टाचारी नहीं लड़ सकते न्याय की लड़ाई…


Report By- Vanshika Singh


उत्तर प्रदेश- यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि वंशवाद के साथ परिवारवाद की राजनीति करने वाले सामाजिक न्याय के समर्थक नहीं हो सकते है. जिनकी जीन्स में भ्रष्टाचार पनप रहा हो, वह लोग सामाजिक न्याय की लड़ाई नहीं लड़ सकते है. वहीं सामाजिक एकता और न्याय की लड़ाई हमेशा से बीजेपी ने लड़ी है. सामाजिक इंसाफ यह होगा कि सरकार की योजनाओं का लाभ हर गरीब को मिलना चाहिए, हर तबके के लोगों को मिले, उनके साथ सामाजिक-आर्थिक भेदभाव भी नहीं होना चाहिए.

दरअसल यही भाजपा का मूल मंत्र है. उत्तर प्रदेश के सीएम योगी ने आज, शुक्रवार को गोरखपुर के झुंगिया गेट के पास दलित के घरमें खाना खाया और फिर मीडियाकर्मियों से बातचीत भी की है. योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इस दलित बस्ती का सुशासन और विकास करने का संदेश देने की भावनाओं को पूरी तरह समाप्त करने के लिए आए है. समतामूलक समाज की स्थापना करना, प्रदेश को भ्रष्टाचार मुक्त करना, राज्य को अपराध मुक्त व्यवस्था में लाना सुशासन का हिस्सा है.

साथ ही उन्होंने कहा है कि बीजेपी सरकार ने पिछले पांच साल में पीएम मोदी से लागू कल्याणकारी योजनाओं का लाभ प्रदेश के हर गांव, हर गरीब इंसान, हर किसान, हर मजदूर, हर महिला, राज्य के हर नौजवान तक बिना किसी भेदभाव के पहुंचाया है. आज इसी का नतीजा है कि उत्तर प्रदेश में 45 लाख गरीबों को आवास मिला है, वहीं 2.61 करोड़ गरीबों के घरों में शौचालय बने है. प्रदेश के किसी भी दलित बस्ती में चले जाइए, यह विकास दिखेगा.

देश में कोरोना महामारी के समय उत्तर प्रदेश के लोगों को मुफ्त में डबल राशन दिया जा रहा है, यह डबल राशन सरकार की ओर से राहत की डोज है. यह सब सामाजिक न्याय का ही हिस्सा होते है. वहीं अगर समाजवादी पार्टी की सरकार की ओर से विकास देखें तो उन्होंने मात्र 18 हजार आवास पांच साल में दिए थे. उनकि सरकार के दौरान गरीबों के मकानों और जमीनों पर कब्जा होता था.

  • https://todayxpress.com
  • LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here